थीम चुनें

नियोजन पक्ष

       

नियोजनालयों द्वारा बेरोजगार आवेदकों कों नियोजन/ नियोजन सहायता एवं व्यावसायिक मार्गदर्शन प्रदान करता है. इस महत्ती दायित्व के निर्वहण के लिये इस राज्य में ४७ (सैंतालिस) कार्यालय कार्यरत है. जिसमें चार उप निदेशक कार्यालय प्रशासकीय कार्य हेतु, तीन विकलांगों के विशेष नियोजनालय, राँची, बोकारो स्टील सिटी, बोकारो एवं जमशेद्पुर में, एक महिलाओं के लिये विशेष नियोजनालय, राँची में, एक अनुसूचित जाति/जनजाति के लिये विशेष नियोजनालय, दुमका मे एवं तकनीकी योग्यता तथा स्नातकोतर आवेदकों के लिये व्यावसायिक एवं कार्यपालक नियोजनालय, राँची मे कार्यरत है. राज्य के विशेष नियोजनालयों कों वेब आधारित संयोजन कर ऑनलाइन निबंधन का कार्य योजना क्रियान्वित की जा रही है. मार्च २०१२ तक ७१००४३ पुरुष एवं १२८६९१ महिला कुल ८३८७३४ निबंधित आवेदक नियोजनालयों के जीवित पंजी पर हैं.
नियोजनालयों (रिक्तियों की अनिवार्य अधिसूचना) अधिनियम, १९५९ के अनुपालन का दायित्व नियोजनालयों पर है. सार्वजनिक क्षेत्र के सभी उपक्रम एवं गैर कृषि कार्य में संलग्न निजी क्षेत्र के प्रतिष्ठान जहाँ २५ या २५ से अधिक कर्मी कार्यरत है. इस अधिनियम प्रावधानों के अनुसार नियोजकों को त्रैमासिक विवरणी (ई०आर०-१) अपने कार्यबल के सम्बन्ध मे एवं दियुबार्षिक विवरणी (ई०आर०-२) व्यावसायिक एवं शैक्षणिक सूचना आवश्यक रूप से नियोजनालयों को देना है. नियोजन पण्य सूचना संग्रहण के उद्देश्य निम्नलिखित हैं:-
• नियोजकों से प्राप्त विवरणियों के विश्लेषण से व्यावसायिक प्रशिक्षण हेतु ज्यादा जानकारी नियोजन पदाधिकारियों को उपलब्ध होगी.
• इन सूचनाओं के आधार पर निदेशालय स्तर से पदाधिकारियों के कार्य क्षमता उन्नयन हेतु आवश्यक दिशा-निर्देश प्रदान किये जाते हैं.
• रोजगार बाजार में होनेवाले परिवर्तनों की जानकारी प्राप्त होगी.
• इन जानकारियों के आधार पर बेहतर श्रम संसाधन योजना बनायी जा सकती है.
नियोजनालयों के द्वारा बेरोजगार आवेदकों की आवश्यकताओं एवं अपेक्षाओं की पूर्ति हेतु रोजगार मेला का आयोजन किया जा रहा है. साथ ही किसी विशेष नियोजक से रिक्तियों के प्राप्त होने पर भर्ती शिविरों का आयोजन किया जा रहा है. नियोजन बाजार मे आ रहे परिवर्तनों एवं आवश्यकताओं से आवेदकों को अवगत कराने हेतु व्यवसायिक मार्गदर्शन एवं कैरियर कौंसलिंग का कार्य नियोजनालयों द्वारा किया जा रहा है. राज्य के छ: अवर प्रादेशिक नियोजनालयों, एक व्यवसायिक एवं कार्यपालक नियोजनालय, एक विश्वविद्यालय नियोजन सूचना एवं मार्गदर्शन केन्द्र तथा सोलह जिला नियोजनालयों, मे स्टडी सेन्टर की स्थापना की गयी है. इन केन्द्रों मे विभिन्न प्रकार के रोजगार से सम्बंधित जानकारी हेतु पुस्तक एवं पत्र-पत्रिकाएँ उपलब्ध है. समय-समय पर बेरोजगार आवेदकों के मार्गदर्शन हेतु विभिन्न विषयों के विशेषज्ञों की सेवा ली जाती है. विभागीय पदाधिकारियों द्वारा शैक्षणिक संस्थाओं मे जाकर छात्र-छात्राओं का मार्गदर्शन किया जा रहा है.